Success to rady सफलता की तैयारी !

Lebar pain इस शब्द से हर कोई भली भाँति परिचित है ! यह सृष्टि ना जाने कितनी बार बन कर बिगड़ चुकी है किसी भी चीज को जन्म लेने से पहले दर्द और कठिनाइयों से गुजरना पड़ता है तत्पश्चात एक जन्म होता है चाहे वह सफलता हो या कुछ और!
water_motion_landmark_sunrise_608332
कोई भी मनुय जब किसी प्रकार की सफलता पाने के लिए कोई कार्य करता है तो उसे शारिरिक मानसिक सामाजिक आर्थिक और आध्यात्मिक दर्द से भी गुजरना पड़ता है फिर भी वह असफल हो जाता है यहाँ उसका एक पड़ाव पूरा होता उसके ज्ञान और समझ में अत्यधिक वृद्धि हो जाती है जो उस व्यक्ति के जीवन काल तक काम आती है वह व्यक्ति पहले से चतुर निर्भीक और सही निर्णय लेने में मानसिक रूप से और भी मजबूत हो जाता है

उसका दूसरा प्रयास तब शुरू होता है जब वह व्यक्ति अनेक दर्द से गुजरने के बाद भी फिर से उस कार्य की सुरुवात करता है पहले की अपेछा इस बार वह सफलता की तैयारी प्राप्त पिछले अनेक अनुभवों के साथ करता है यहाँ उसके जीतने की जिद की भावना काम करती है इस बार वह अपनी मंजिल को प्राप्त कर लेता है वह तब तक लड़ता है जब तक की वह सफल नहीं हो जाता सकारात्मक जिद इंसान को सफलता के शिखर पर ले जाती है
pexels-photo-261630
अब उस व्यक्ति का स्वयं पर विस्वास और भी बढ़ जाता है उसे अनेक लाभकारी अुभवों की प्राप्ति हो जाती है फिर वह सफलता के बड़े खेल,खेलता है यदि वह व्यक्ति किसी भी वजह से पहले पड़ाव पर ही रुक जाता और अपना रास्ता बदल लेता वह दर्द को सहन नहीं कर पाता टूट जाता तो हमेशा के लिए असफल हो जाता! अधिकतर लोग यही करते है उनकी अपनी व्यक्तगत तैयारी सही नहीं होती और वो इसका दोष परिवार समाज आदि को देते है

इस सृस्टि में कुछ भी पाने से पहले इस सृस्टि को अपना शारीरिक और मानसिक श्रम देना पड़ता है अपनी इच्छा शक्ति देनी पड़ती है अपनी सकारात्मक भावनाये देनी पड़ती है किसी भी फूल को खिलने से पहले अनेक मौसम की चोट सहनी ही पड़ती है उजाले से पहले घना अँधेरा ही होता है सर्दी से पहले भयंकर धुप और गर्मी होती है यही सृस्टि का नियम है
download (6)
यदि कोई मनुष्य अपने अवचेतन मन का प्रयोग किसी सफलता विशेष के लिए करता है तो सृस्टि उसके लिए सभी दरवाजे एक साथ खोल देती है यह मेरा अपना अनुभव है मैं हमेसा अपने व्यक्तगत अनुभव ही शेयर करता हूँ क्योकि मैं सांसारिक कर्म करते हुए भी एक योगी हूँ

अवचेतन का प्रयोग जादू की तरह कार्य करता है आप चाहे तो अवचेतन की शक्ति से कही भी बेमौसम बारिश करा सकते है अपने आस पास के वायुमंडल में परिवर्तन कर सकते है अवचेतन की शक्ति से किसी भी गंभीर रोग को बिना दवाओं के ठीक किया जा सकता है अनेक घटनाओँ की दिशा बदली जा सकती है एक समय में आप अनेक जगह उपस्थित हो सकते है जितना चाहे उतना धन आप अपने जीवन में उत्पन्न कर सकते है आप अवचेतन की शक्ति से दीर्घकालिक जीवन भी जी सकते है

आप जो स्वयं के बारे में सोचते है आप वही बनते है आपको जो महसूस होता है वही आपके साथ होता भी है आपके जीवन का हर पहलु आप स्वयं है आपके मन का विश्वास आपके भाग्य का निर्माण करता है अपने ईश्वर आप स्वयं है किसी भी प्रकार की सफलता के लिए पहले अपने भीतर झाँकिये, आपका अपना सब कुछ आपके भीतर से ही उत्पन्न होता है
images (69)
स्वयं को नकारात्मक ऊर्जा से निकाल कर दैवीय ऊर्जा से जोड़े जो आपके अंदर ही समाहित है कोई भी मनुष्य सिर्फ एक सामान्य मनुष्य नहीं है उसके भीतर एक सृस्टि कर्ता है जिसने इस सृस्टि की कल्पना की और सृस्टि को महसूस किया,जो अनंत है जो शून्य है मनुष्य जीवन के सभी उत्तर मनुष्य के भीतर ही मौजूद है

सामान्य अवस्था में प्रत्येक मनुष्य एक प्राणी मात्र की भाति दिखाई देता है कोई सफलता कठिन नहीं होती मनुष्य का अपना सांसारिक नकारात्मक मन उसे कठिन बनाता है जब आपको सच्ची प्यास लगती है तो ही घनघोर बारिश होती है किसी भी प्रकार की सफलता के लिए सबसे पहले स्वयं को व्यवस्थित करे आपका विस्वास ही आपकी सफलता है आपका ईश्वर है
youth-active-jump-happy-40815
ये सृस्टि बेहद अलौकिक है आपको पता है की एक नन्ही सी चींटी कैसे चलती है वो कहाँ से आई, इस पृथ्वी पर आखिर उसकी जरुरत ही क्या थी ! उसका निर्माण किसने किया, क्या वो स्वयं पैदा हुई, या कोई है जो उसे इस रूप में देखना चाहता था, फिर उसने एक नन्ही सी चींटी को जन्म दिया !

यदि आप एक स्टूडेंट है तो अपनी शिछा पर गहरा ध्यान दें,यदि आप बिजनेस मैन है तो पूरी तरह अपने बिजनेस कार्य पर फोकस करे ! यदि आप बेरोजगार है तो आप अपने पसंद के काम काज को ढूढ़े जिससे आपका उस कार्य मन लगे और आप बेहतरीन सफलता को प्राप्त कर सके आप जो कुछ भी है, अपने कार्यो को अपने अवचेतन मन की प्रक्रिया से जोड़ कर करे निश्चित ही आपकी सफलता का अनुपात किसी अन्य व्यक्ति से बहुत ज्यादा होगा!pansy_flower_blossom_bloom_608324

किसी चीज को सिर्फ जान लेना ही लाभप्रद नहीं होता !बल्कि उसके उपयोग और प्रयोग से वह लाभ प्रदान करता है जो आप जानते है किन्तु उसे मानते नहीं तो यह एक निष्क्रिय क्रिया है, मानना यानि विश्वास करना जैसा आपका विश्वास वैसा आपका जीवन होगा! प्रत्येक मनुष्य अपने विश्वास से ही स्वयं का निर्माण करता है यह आपके ऊपर है यह आपकी जिम्मेदारी है किसी बाहरी इंसान या किसी बहरी ईश्वर का नहीं!

सफलता का रूप कुछ भी हो, वो बिना आपकी अनुमति के आपके पास नहीं आ सकता, जब आप उसे अपने पुरे मन से चाहोगे तो वह जादू की तरह आपके पास होगा उसे भी आपका प्रेम ही चाहिए!

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s