Life is Game ! जीवन इक खेल है !

प्रत्येक मनुष्य को अपने जीवन की परेशानिया अपनी समस्याएं बहुत बड़ी प्रतीत होती है! इन्सान को लगता है की वो बेचारा लाचार और दुर्बल है उसे अपने जीवन की कठिनाइया पहाड़ जैसी लगती है जीवन है तो समस्याएं है! ये तो सभी जानते है की जहां जीवन नहीं वहाँ कोई सुख नहीं कोई कस्ट नहीं होता तथा सुख दुःख का नाम ही जीवन है
images (70)
सही मायने में इंसान का जीवन एक खेल की तरह है वो अपने इस खेल को किस नजरिये से देखता है और इसके वो लिए कितना सीखने को तत्पर रहता है क्योकि बिना सीखे कोई इंसान एक अच्छा प्लयेर नहीं बन सकता! इस खेल को सीखने के लिए असफल होना पड़ता है यह एक बार से ज्यादा कई बार भी हो सकता है असफलता की राह पर चलकर ही सफलता को प्राप्त किया जा सकता है असफलता से बिलकुल भी डरे नहीं, बल्कि आप यह जाने की आप सही दिशा में आगे की ओर अपना कदम बढ़ा चुके है

आपके भीतर जीवन की गाडी को चलाने के लिए दो मजबूत पहिये मिले होते है एक पहिया सकारात्मक होता है जो आपको आगे की तरफ ले जाता है दूसरा पहिया नकारात्मक होता है जो आपको हमेशा पीछे की और धकेलता है ये पहिये आपके मन के अंदर की दो भावनाएं होती है आप किस भावना को पोषित करते है यह आपकी व्यक्तगत पसंद की बात है आप जिस भावना को अपने भीतर और ज्यादा बढ़ाएंगे आप खेलं में उसी अनुपात में हारेंगे या जीतेंगे!
blue-pillow-2219594__480
जीवन मिला है तो सभी को किसी ना किसी चरित्र का रोल प्ले करना ही है क्योकि आप जीवन के खेल में शामिल हो चुके है आप इस खेल से बच नहीं सकते! चरित्र चुनने के लिए आपको स्वतंत्रता भी प्राप्त है सृस्टि सबके लिए एक भाव है एक समान है आपकी दिली इच्छा क्या है सकारात्मक या फिर नकारात्मक!

इस संसार में हजारो चरित्र मुफ्त में उपलब्ध है आप जिस तरीके का चरित्र चुनते है खेल के पश्चात उसी तरह का इनाम भी आपको प्राप्त होता है और आपके खेल से बाहर हो जाने के बाद भी आपका इनाम लोगो के बीच जीवित रहता है आप जानते है पृथ्वी का जीवन एक रंग मंच है यह एक थिएटर के जैसा है संसार के परदे पर आप क्या छोड़ कर जाना पसंद करेंगे
images (42)
गौर से देखिये इस एक सृष्टि में जीवन के कितने सारे तत्व मौजूद है कितने सारे एलिमेंट्स मिलकर इस खेल को पूर्णता प्रदान करते है यदि आप बीस वर्ष की उम्र के आस पास के है तो एक बड़ा खेल आपका इन्तजार कर रहा है यदि आप साठ वर्ष या इस उम्र के करीब है तो आप जीवन के खेल को समझ चुके है अभी भी आप बहुत से बेहतरीन इनामो को उत्पन्न कर सकते है आपके भीतर का ईस्वर कभी वृद्ध नहीं होता!

संसार में आने जाने का क्रम अनवरत चालू है जो चला गया वो जीवन का खेल खेलने के लिए अपना भेष बदलकर फिर आएगा किन्तु आप एक दूसरे को पहचान नहीं पाएंगे क्योकि उसको खेल को जीरो से शुरू करना है यदि आप उसे पहचान गए तो खेल का स्वरुप ही बिगड़ जायेगा

आपका अपना दृ्टिकोण ही आपके खेल को छोटा या बड़ा बनाता है यदि आपमें धैर्य और विस्वास की पराकाष्ठा उत्पन्न हो जाये तो आप एक बड़े खिलाडी बन सकते है यदि आप में सभी बुरे इन्सानो को माफ़ करके उनसे माफ़ी मांग लेने का साहस आ जाये ! तो इस संसार में आप एक महान खिलाडी बन जाते है
माफ़ करने का यह अर्थ नहीं की सिर्फ दिखावा ही हो बल्कि यह कार्य पुरे मन से हो!
images (41)
आपकी प्रस्थिति कुछ भी हो आपकी उम्र कितनी भी हो यदि आप अपने सभी व्यक्तगत कार्य स्वयं कर लेते है तो विस्वाश करे आप कुछ भी कर सकते है! इसे कभी ना भूले की आप इस महान सृष्टि के खेल का एक जरुरी हिस्सा है आप बहुत कुछ कर सकते है आप इसी लिए यहाँ आये है आपका पृथ्वी पर होना ही एक चमत्कार और एक खेल है

मनुष्य को चाहिए की वह अपने शरीर से अधिक अपने मानिसक कर्म पर ध्यान दे आपके भीतर की सकारात्मक और सबकी भलाई की भावना ही आपको उचाई पर लेकर जाती है यदि आप स्वयं पर नियंत्रण पा लेते है तो बाहरी संसार ऑटोमैटिक आपके नियंत्रण में आने लगता है आपके जीवन का बाहरी संसार जैसा भी है सब आपके ही मन का दर्पण है सकारात्मक भावना ही आपकी प्रत्येक सफलता का कारण है!एक बहुत अच्छी लाइन है की,माना की अँधेरा घना लेकिन रौशनी जलाना कहा मना है!
pexels-photo-1804796
जीवन को जीने के शिवा यहाँ किसी का कुछ भी नहीं है! सब कुछ एक खेल है आप धन और संपत्ति खूब कमाए किन्तु आपको पता है की यह सब ज्यादा दिन तक आपके साथ नहीं रहेगा, इस लिए विपरीत परस्थितियो में भी आप हमेसा प्रसन्नता के साथ सकारात्मक कर्मशील व्यक्ति बने रहें!

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s