घटनाएं कैसे घटित होती है ? (What is Make , A Destination)

मनुष्य￰ हो अन्य जीव जंतु सभी के पास एक मन है और मन के भीतर जीवन की सभी भावनाये चित्र सभी घटनाये रिकार्ड होती चली जाती है images (33).jpeg
प्रश्न यह है की सभी घटनाएं कैसे और क्यों घटित होती है इस लेख में इस ख़ास टॉपिक को बहुत बारीकी से आज समझते है जिससे हम अपने जीवन में अपनी कामना के अनुसार आगे की सभी घटनाओ को मोड़ सके और अपनी इच्छानुसार अपने जीवन का निर्माण कर सके यहाँ समय का बहुत महत्व है समय की महत्ता तो जीवन के हर आयामो में होती है
photo-1562887106-2912228bea69.jpeg
इस सृष्टि में प्रत्येक वस्तु और सभी जीव जंतु मनुष्य एक एनर्जी लेवल पर बायब्रेट करते रहते है सभी की अपनी अपनी एक फ्रीकवेंसी होती है मैं यह लेख लिख रहा हूँ मेरी भी अपनी एक एनर्जेटिक फ्रीकवेंसी है मनुष्य की फ्रीकवेंसी उसके मन के विचारो और भावनाओँ के बदलने से बदलती रहती है अवचेतन मन एक सुप्रीम पावर होने के कारण इसकी फ्रीकवेंसी अति तीव्र और मैग्नेटिक होती है
man-looks-stars-moon-elements-image-furnished-nasa-man-looks-stars-moon-114311078.jpg
जब कोई मनुष्य किसी चीज के बारे में बहुत गहराई से बार बार सोचने लगता है तथा बार बार उसे ही महसूस करने लगता है तो उसकी ये अवस्था अवचेतन मन की अवस्था हो जाती है उस वक़्त उस व्यक्ति के विचारो भावो और मन के भीतर घूम रहे अनेक दृश्यों की ऊर्जा अत्यंत मैग्नेटिक हो जाती है और वह मैग्नेटिक ऊर्जा अपने समान वस्तु या घटना को उस व्यक्ति के जीवन में खीँच कर ले आती है

सृष्टि के भीतर मौजूद एक एक कण एक एनर्जी लेवल पर होने के कारण वह मैग्नेटिक होते है मन के भीतर का एक एक दृश्य एक एक विचार और सभी भावनाये अति तीव्र ऊर्जावान और मैग्नेटिक होती है ! समस्त ब्रम्हांड उत्पत्ति के समय एक नन्हा सा पिंड था सरसो के एक दाने के बराबर था किन्तु उसमे सारी सृष्टि और जीवन प्राण समाया हुआ था वह पिंड एक असीम अवचेतन मन था जिसने कालांतर में अनेक भौतिक बस्तुओ अनेक जीव जन्तुओं और त्री पुरुष का रूप धारण कर लिया!
images (28)
उस वक़्त वह पिंड एक शून्य मात्र था! आज के आधुनिक विज्ञानं के अनुसार बिग बैंग के वक़्त समय भी नहीं था कोई गति नहीं थी समस्त ब्रम्हांड मात्र शून्य और एक ज्योति के सामान एक छोटा सा पिंड ही था बिग बैंग के पश्चात ही सभी ग्रहों तारों जीव जन्तुओ की की उत्पत्ति हुई!और जो भी निमाण हुआ बहुत सिस्टमैटिक तरीके से हुआ! जैसे किसी ने जान बूझकर सब कुछ एक प्लान की तरह ये सब किया है एक खेल की तरह जहाँ खेलने के लिए सब कुछ है

और इस खेल का सबसे बड़ा हथियार या टूल मन है और इस मन के भी दो भाग है चेतन मन और अवचेतन मन दोनों एक ही सिक्के के दो पहलु हैं! चुकी जो जिस लेवल का होता है वह उसी लेवल का खेल खेलता है अवचेतन मन या असीम शक्ति ने एक अलौकिक कार्मिक खेल को रचा और वह स्वयं इसे अनेक रूपों में खेल रहा है चुकी वह अजन्मा और अनंत है इसलिए यह जीवन मृत्यु का खेल भी अनंत है
photo-1467647160393-708009aefd5c.jpeg
इस सृष्टि में वह अकेला है और नहीं भी जैसे एक व्यक्ति के स्पर्म में अनेक संतानें छुपी होती है ठीक वैसे ही उसके भीतर अनेक ब्रम्हांड अनेक शक्तियाँ छुपी हुई है वह सुप्रीम है वह अपनी कल्पना और भावना के जरिये सृष्टि का निर्माण और विनाश करता है

एक आम के बीज में पूरा आम का बगीचा छुपा होता है मूलतः वह एक ही होता है उस असीम अवचेतन मन को स्त्री भी कह सकते है पुरुष भी कह सकते है या दोनों को एक कह सकते है उसे एक नाम से पुकार सकते है या अनेक नामो से पुकार सकते है वह केवल एक बौद्धिक बहने वाली अनत शक्ति है वह स्वयं अपने भीतर से ही देवताओ और दानवो को उत्पन्न करता है किसी भी शक्ति का मूल कार्य है क्रियाशील रहना ! क्रियाशील ही कर्म है ! इस प्रकार वह असीम शक्ति इस सृष्टि के जरिये हमेशा क्रियाशील और कर्मशील रहता है
photo-1503454537195-1dcabb73ffb9
जब वह असीम शक्ति मनुष्य और बिभिन्न जीवो के रूप में बिभिन्न सुख और दुखो का अनुभव करते हुए किसी विचार पर गहराई से ध्यान केंद्रित करता है तो उक्त कामना के अनुसार जीवन के परिणाम बदल जाते है किसी भी मनुष्य के अवचेतन मन की बात हो ! वह चाहे किसी मेट्रो सिटी में रहने वाला कोई बहुत पढ़ा लिखा व्यक्ति हो, या वह चाहे किसी घने जंगल में रहने वाला कोई अनपढ़ अज्ञानी आदि वासी मानव हो ! इससे फर्क नहीं पड़ता ! क्योकि दोनों के भीतर एक ही प्राण और एक ही अवचेतन मन है
photo-1502086223501-7ea6ecd79368
मन के भीतर प्रत्येक भाव चाहे वह डर हो साहस हो आत्मग्लानि हो क्रोध हो कुछ भी हो वह अपने ही समान घटनाओ को जन्म देता है इसलिए मन को साफ़ दिशा और सकारात्मक दिशा में रखना जरुरी होता है जिसके कारण जीवन में सकरात्मक और मनचाही घटनाये घट सके!

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s