जिद , सफलता के लिए जरुरी क्यों होता है ?(Why become comitment a success)

दोस्तों,
जैसे एक शरीर को चलाने के लिए कई चीजों की जरूरत पड़ती है जैसे हवा,अग्नि,अकाश जल, अन्न,रोशनी,दवाये और भी कई चीजे,ठीक उसी प्रकार जीवन में सफलता प्राप्त करने के लिए अन्य कई ंकार्यों के साथ जिद की भावना का भी होना अत्यंत जरुरी है!

जिद यानि संकल्प यानि कमिटमेंट,जीतने के लिए,मनुष्य जीवन भौतिक और अभौतिक दो तत्वों से बना है और इन्ही दो तत्वों के सहारे जीवन चलता रहता है भौतिक जो कुछ भी हमें अपने चारो तरफ दिखाई देता है अभौतिक जो दिखाई नहीं देता सिर्फ उसे महसूस किया सकता है जैसे मनुष्य और तमाम जीवो का मन तथा मन के भीतर की भावनाये,विचार और उनकी तरंगे!

बिना उचित संकल्प के प्रत्येक सफलता अधूरी होती है संकल्प की शक्ति अभौतिक शक्ति होती है जो दिखाई तो नहीं देती किन्तु किसी असंभव कार्य को भी संभव बना देती है जो भी सफलता प्राप्त करता है वो किसी ना किसी संकल्प की भावना के माध्यम से प्राप्त करता है संकल्प मानसिक शक्ति को बढ़ा देता है और उस व्यक्ति को सफलता के प्रति सजग बनाता है!

इसका मजबूत कारण भी है की प्रत्येक मनुष्य भीतर से कही ना कही नकारात्मक प्रवृत का होता है क्यों की बचपन से वह अनेक बुरे दृश्यों,बुरे विचारो और तमाम नकारात्मक घटनाओ को देखता सुनता रहता है जिससे उसके मन में एक नयी दुनिया सी रच बस जाती है और मन के भीतर की ये दुनिया संस्कार का रूप ले लेती है मनुष्य तमाम हीन भावनाओ के जाल में फंस कर रह जाता है

सत्य तो यह है प्रत्येक स्त्री या प्रत्येक पुरुष सभी के भीतर कोई ना कोई हीन भावा की ग्रंथि जरूर होती है चाहे वो रूप रंग को लेकर हो या शारीरिक कद- काठी,अथवा धन की कमी को लेकर हो! संकल्प शक्ति से व्यक्ति हीन ग्रंथि और हीन भावना से बाहर आ जाता है उसको सिर्फ़ अपनी मंजिल दिखाई देने लगती है और कुछ भी नहीं !

सिर्फ ध्यान योग से ही मनुष्य अपनी शक्ति सत्यता को जान सकता है मनुष्य इतना शक्तिशाली है वो कुछ भी कर सकता है किन्तु अज्ञानता उसे हमेशा एक सिमित दायरे में बांधे रखती है!ज्ञान ही समस्त मुक्ति का द्वार होता है!

यदि आप किसी भी प्रकार की सफलता के लिए कार्यशील है तो एक सच्चा संकल्प करे की आप हर हाल में अपनी मंजिल को प्राप्त करके रहेंगे! संकल्प के साथ कार्य करने में बहुत अधिक आनंद आता है धीरे धीरे सभी बंद दरवाजे खुलने लग जाते है संकल्पित व्यक्ति का अवचेतन मन पूरी तरह से सक्रिय हो जाता है क्योकि सच्चा संकल्प गहरे मन से होता है उसमे दिखावटी पन बिलकुल भी नहीं होता

संकल्प की शक्ति अत्यधिक वेगवान होती है वो आँधियो से नहीं डरता,वो अँधेरे रास्तो में भी स्वयं ज्योति समान बन जाता है उसकी सहन शक्ति हज़ार गुना बढ़ जाती है वो जब एक सच्चे संकल्प के साथ आगे बढ़ता है तो फिर पीछे मुड़कर नहीं देखता ना थकता है ना रुकता है जब तक की उसे मंजिल नहीं मिल जाती!

अभौतिक शक्तिओ के माध्यम से कोयला एक दिन हीरे में बदल जाता है नहीं तो प्रत्येक व्यक्ति कोयला बाजार से लाकर उसे हीरे में परिवर्तित कर ले,जो दिखाई नहीं देता वही अनंत होता है उसके शक्ति की कोई सीमा नहीं होती! प्रत्येक सच्चा संकल्प एक अद्भुत मंत्र की तरह होता है जो संकल्पित व्यक्ति का कदम दर कदम मार्ग दर्शन करता है और संकल्पित व्यक्ति को सफलता के सिखर पर पंहुचा देता है!संकल्पित या जिद्दी व्यक्ति ही इतिहास रचता है!

2 विचार “जिद , सफलता के लिए जरुरी क्यों होता है ?(Why become comitment a success)&rdquo पर;

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s