ध्यान-5 maditition(काया kalp)

अब आप योग के मार्ग पर आ चुके हो ! योग का अर्थ है उस अस्तित्व से स्वयं को सीधे जोड़ना जो आप चाहते हो .ध्यानका अर्थ है की सिर्फ उसी अस्तित्व को साकार रूप में प्रकट कर लेना जो आप चाहते हो ! इसके अलावा और कुछ भी नहीं ! ये कैसे होता है… Continue reading ध्यान-5 maditition(काया kalp)

ध्यान-4 maditition (काया कल्प)

अब आपको हर दिन सुबह के पांच बजे तक बिस्तर से उठ कर अपने रूम से बाहर निकल कर इस संसार को सकारात्मक दृष्टि से देखना है !खुली हवा में आप यदि हो ,तो बहुत अच्छा होगा! जब शरीर से नींद और आलस्य दूर हो जाये तब आप फ्रेश हो ले हाथो पैरो को स्वच्छ… Continue reading ध्यान-4 maditition (काया कल्प)

ध्यान- maditition-3(कायाकल्प)

आशा है की, आप अपने आप को अपने मन को बदल कर अभी तक काफी सकारात्मक कर चुके होंगे! ये एक या कुछ दिन कुछ महीनो के लिए नहीं करना है इसे पूर्ण समर्पण की भावना से जीवन के आखिरी पल तक के लिए अपनाना हैं ! सृष्टि और उसकी शक्ति जो आपके भीतर और… Continue reading ध्यान- maditition-3(कायाकल्प)