मन

रे मन तुझे नमन आदि अनंत आवागमन स्वरुप विशाल गगन रे मन तुझे नमन ! निर्मल धवल बहता जल शहद अग्नि मेरु कोष स्वर्ग नरक अनेक तत्त्व युक्त एक सार दुनिया का अनमोल धन रे मन तुझे नमन ! ढाल भाल संजाल मन से मन जन जन फैला उपवन विष युक्त सुमन रे मन तुझे नमन ! चंचल पल पल चित्र विचित्र पिण्डलोक परालोक दर्शन धाम ब्रम्हांड कण कण निहित जड़ चेतन रे मन तुझे नमन ! चिंतन मनन देवत्व भाग प्रवृति सृस्टि शून्य समय दशानन नाशवान द्वेग वेग सघन गति अति तीव्र पवन रे मन तुझे नमन, रे मन तुझे नमन !

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s